Saturday, February 27, 2010

Mishri Ko Baag

मिश्री को बाग़

मिश्री को...
मिश्री को बाग़ लगादे रसिया
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे
मिश्री को बाग़ लगादे रसिया
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे
खारी लागे रे म्हाने खारी लागे
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे
मिश्री को बाग़ लगादे रसिया
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे - २

ओ जी ओ ... ओ जी ओ ..
रंग रंगीला म्हारा साहेब थे तो - २
थाकि सावली... थाकि सावली सूरत मतवाली लागे
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे
थाकि सावली... थाकि सावली सूरत मतवाली लागे
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे
मिश्री को बाग़ लगादे रसिया
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे - २

ओ जी ओ ... ओ जी ओ ..
सामने पड़ोसन देखो सुर्मो घारे
ठुमका करती छम छम चाले
बातो फुटेरी सी, बातो फुटेरी सी म्हाने एक झारी लागे
उजेड़ी सी म्हाने एक क्यारी लागे
बातो फुटेरी सी म्हाने एक झारी लागे
उजेड़ी सी म्हाने एक क्यारी लागे
मिश्री को बाग़ लगादे रसिया
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे - २

ओ जी ओ ... ओ जी ओ ..
थे भी तो बिने लुक छिप झांको
खिड़की खोलो झुक झुक झांको
म्हाने सावली , म्हाने सावली पड़ोसन कामंगारी लागे
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे
म्हाने सावली पड़ोसन कामंगारी लागे
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे
मिश्री को बाग़ लगादे रसिया
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे - २

में तो इब थाने लागूं हु पुरानी
रिसी बातया मत कर सुनले रानी
तू तो म्हाने , तू तो म्हाने रूप की ढ्हिरानी लागे
प्यारी प्यारी म्हाने गृहरानी लागे
तू तो म्हाने रूप की ढ्हिरानी लागे
प्यारी प्यारी म्हाने गृहरानी लागे
मिश्री को बाग़ लगास्या हिरिये
नीम की निमोड़ी थाने खारी लागे - २
मिश्री को बाग़ लगादे रसिया
नीम की निमोड़ी म्हाने खारी लागे - २

4 comments: