Saturday, March 19, 2011

Holi Khelan Aaya Madan Murari


होली खेलन धूम मचावन , आयो यशोमती लालो
आयो प्रेम की होली लेके , मोहन मुरली वालो


होली खेलन आयो - मदन मुरारी , फागन रंग बरस रह्यो
कान्हो मारे भर भर पिचकारी , आज रंग बरस रह्यो

खेले श्याम संग - , होली राधा प्यारी, आज रंग बरस रह्यो
कान्हो मारे भर भर पिचकारी , आज रंग बरस रह्यो

ग्वाल बाल की टोली लेके आयो किशन कनाहियो - 2
नाचे धमाल मस्त बंसी जो बजैयो -
देखो श्याम सलोनो कान्हो, होली खेलन आयो है
हो संग में ग्वाल हाथ पिचकारी, लाल गुलाल भी लायो हैं
सखियाँ संग लेके - ,आई राधा प्यारी , राधा रो मन हरस रह्यो
खेली श्याम संग होली राधा रानी, फागन रंग बरस रह्यो

राधाजी के मुख पर कान्हो रंग गुलाल लगायो हैं -2
लाल गुलाबी राधा देख कर कान्हा के मन भावे हैं -
कान्हो लागे श्यामल श्यामल, राधा गोरी गोरी
हो गोकुल वासी टेक राधा और कन्हे की जोड़ी
राधेश्याम की - जोड़ी लागे प्यारी आज रंग बरस रह्यो
खेली श्याम संग होली राधा रानी, फागन रंग बरस रह्यो

कान्हो दौड़े आगे आगे पीछे गोपियाँ सारी -2
एक बार तो सुना दो मोहन मुरली की धुन प्यारी -
राधा संग करी सखियाँ ने, झुण्ड बनके आईए
अरे सुनु श्याम से मीठी बंसी, भाग ना जाए कन्हाई
वोह तो सुध बुध - भूल गयी सारी , जो ब्रज धुन छेद गयो
खेली श्याम संग होली राधा रानी, फागन रंग बरस रह्यो

मतवालों कन्हुड़ो म्हारो रंग रसियो बिहारी -
रंग डाल्यों राधा ऊपर भीगी चुनर सारी -
उड़े गुलाल आज अम्बर में रंग री उड़े फुहारी
राधा के संग होली खेले देखो कृष्ण मुरारी
राधा बराज बराज के - हारी, मोहन नहीं मान रह्यो
खेली श्याम संग होली राधा रानी, फागन रंग बरस रह्यो

राधा संग सपना में मोहन अद्भुत रूप दिखावे
प्रेम रंग री होली माहि प्रेम रंग बरसावे -
जोड़ी राधे श्याम की, मेरे चित को छु गया
ओह इस जोड़ी के दर्शन करके , मेरा जीवन सफल हुआ
थारी लीला -3 अजब बनवारी , म्हारो तो खिल भाग गयो
खेली श्याम संग होली राधा रानी, फागन रंग बरस रह्यो




1 comment: